प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना

pm kisan swanidhi yojna
pm street vender atmnirbhar nidhi yojna

Table of Contents

प्रस्तावना:

भारत में छोटे व्यापारियों और विक्रेताओं का महत्वपूर्ण हिस्सा सड़क विक्रेताओं द्वारा निभाया जाता है। सड़क विक्रेताएं जीवन्त बाजारों की सांस और गतिशीलता को बढ़ाती हैं, तथा उद्यमिता, रोजगार और आत्मनिर्भरता के साधन प्रदान करती हैं। इन विक्रेताओं के प्रति सरकार की उपेक्षा ने अक्सर उन्हें अनुचित प्राकृतिक वातावरण में बाधित किया है। इसके चलते, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने “प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना” की शुरुआत की है जिसका उद्देश्य सड़क विक्रेताओं की स्थिति को सुधारना, उन्हें वित्तीय सहायता प्रदान करना और उनके आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देना है।

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना क्या है ?

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना भारत सरकार द्वारा शुरू की गई एक महत्वपूर्ण योजना है। इस योजना के तहत सड़क विक्रेताओं के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है ताकि वे आत्मनिर्भर बन सकें। यह योजना उन सड़क विक्रेताओं को लाभ प्रदान करती है, जो सड़कों पर नमूना विक्रेता होते हैं। इन विक्रेताओं के पास कोई अन्य व्यापार नहीं होता है और वे अपना जीवन दिन-भर सड़कों पर नमूना विक्रेता बनकर गुजारते हैं।

इस योजना के तहत, सरकार सड़क विक्रेताओं के लिए ऋण या वित्तीय सहायता प्रदान करती है। इस योजना से सड़क विक्रेताओं को वित्तीय स्थिरता मिलती है और वे आर्थिक रूप से स्वावलंबी बन सकते हैं।

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना की शुरुआत कब हुई थी ?

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना की शुरुआत 1 जून 2020 को की गई थी। यह योजना COVID-19 महामारी के कारण प्रभावित हुए सड़क विक्रेताओं की सहायता के लिए शुरू की गई थी। इसके तहत, बेरोजगार और गरीबी रेखा से नीचे के सड़क विक्रेताओं को आर्थिक सहायता दी जाती है ताकि वे अपने व्यापार को पुनर्स्थापित कर सकें और आत्मनिर्भर बन सकें।

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना का मुख्य उद्देश्य क्या था ?

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना का मुख्य उद्देश्य सड़क विक्रेताओं को आर्थिक सहायता प्रदान करके उन्हें आत्मनिर्भर बनाना है। इस योजना के माध्यम से, बेरोजगार और गरीबी रेखा से नीचे के सड़क विक्रेताओं को वित्तीय सहायता दी जाती है ताकि वे अपने व्यापार को पुनर्स्थापित कर सकें। इसके अलावा, योजना का उद्देश्य सड़क विक्रेताओं को स्वयंसेवी बनाकर उन्हें आत्मनिर्भरता की प्राप्ति करने में मदद करना भी है।

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना से क्या लाभ मिलेगा ?

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना के अंतर्गत आपको निम्नलिखित लाभ मिल सकते हैं:

  1. आर्थिक सहायता: इस योजना के तहत आपको 50 हजार रुपये तक का लोन मिलता है जो ब्याज दर 12% के साथ 3 साल के लिए दिया जाता है. इस योजना के जरिए स्वयं का बिजनेस शुरू करने के लिए आर्थिक सहायता मिलती है.
  2. प्रशिक्षण: स्ट्रीट वेंडरों को व्यापार के बारे में जागरूकता प्रदान करने के लिए प्रशिक्षण प्रदान किया जाता है. यह प्रशिक्षण व्यवसाय के लिए आवश्यक ज्ञान, संसाधनों के उपयोग और संचालन के तरीकों को सीखने में मदद करता है.
  3. निर्माण एवं संचालन में सहायता: योजना के तहत, स्ट्रीट वेंडरों को संचालन के लिए आवश्यक सामग्री जैसे थैले, इस्त्री, थेले, गाड़ी आदि की व्यवस्था करने के लिए भी सहायता प्रदान की जाती है.
  4. स्वतंत्रता: यह योजना स्वयं व्यवसाय शुरू करने के इच्छुक लोगों को स्वतंत्रता प्रदान करती है|
  1. लोन प्राप्ति: इस योजना के अंतर्गत, स्ट्रीट वेंडर्स को वित्तीय संस्थाओं से लोन प्राप्त करने का मौका मिलता है। यह लोन उद्यमियों को व्यापार की शुरुआत के लिए सहायता प्रदान करता है और उनकी आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देता है।
  2. न्यूनतम ब्याज दर: पीएम स्वनिधि योजना के अंतर्गत प्रदान किए जाने वाले लोन पर न्यूनतम ब्याज दर लागू होती है। इससे स्ट्रीट वेंडर्स को ब्याज के मामले में आराम मिलता है और उनकी आर्थिक बोझ कम होता है।
  3. स्वनिधि आईडी कार्ड: योजना के अंतर्गत, प्रत्येक स्ट्रीट वेंडर को एक स्वनिधि आईडी कार्ड प्रदान किया जाता है। यह कार्ड स्ट्रीट वेंडर के बाजार में पहचान और विश्वास को बढ़ाता है और उनके व्यापार को बढ़ावा देता है।

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना के लिए पात्रता क्या है ?

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना के लिए निम्नलिखित पात्रता मानदंड होते हैं:

  1. स्ट्रीट वेंडर: योजना का लाभ उन सभी गली-मोहल्ले के स्ट्रीट वेंडरों को प्राप्त होता है, जो विशेष रूप से खाद्य और गैर-खाद्य सामग्री का बिक्री करने के लिए सड़कों और जनस्थानों पर अपना व्यवसाय संचालित करते हैं.
  2. आय सीमा: स्ट्रीट वेंडरों की आय सीमा के आधार पर पात्रता में निर्धारण होता है. आय सीमा राज्य सरकारों द्वारा निर्धारित की जाती है और यह योजना के अंतर्गत लाभार्थी के रूप में चयन के लिए मान्याता प्राप्त करने के लिए आवश्यक होती है.
  3. निवास स्थान: योजना के तहत, योग्यता वाले स्ट्रीट वेंडरों का मूल निवास स्थान जिस राज्य/केंद्रशासित प्रदेश में स्थित हो, उसी राज्य/केंद्रशासित प्रदेश की सरकार को आवेदन पत्र देना होता है.
  4. पंजीकरण: स्ट्रीट वेंडर को स्थानीय नगर पालिका या नगर निगम के माध्यम से पंजीकरण करवाना चाहिए|
  5. आवेदक का आयु 18 से 65 वर्ष के बीच होना चाहिए।
  6. आवेदक का अकाउंट बैंक में होना आवश्यक होता है।
  7. उम्मीदवार को किसी भी संबंधित संस्था या सरकारी विभाग से अधिकृत होना चाहिए जो इस तरह की व्यवसायिक गतिविधि को लाइसेंस देता हो।
  8. उम्मीदवार को स्वीकृत औद्योगिक क्षेत्र में अपनी गतिविधियों को शुरू करने के लिए अपने पास पर्याप्त जगह होनी चाहिए।
  9. योजना के तहत लोन के लिए आवेदक का नागरिकता प्रमाणपत्र और आधार कार्ड होना अनिवार्य है|

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना के लिए जरूरी दस्तावेज क्या है ?

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना के लोन के लिए आवेदन करने के लिए निम्नलिखित आवश्यक दस्तावेजों की आवश्यकता होती है:

  1. प्रमाणपत्र: आवेदक को अपनी पहचान प्रमाणित करने के लिए नागरिकता प्रमाणपत्र या जन्म प्रमाणपत्र की प्रतिलिपि प्रदान करनी होगी।
  2. आय प्रमाणपत्र: आवेदक को अपनी आय साबित करने के लिए आय प्रमाणपत्र या आय के संबंध में किसी अन्य सरकारी दस्तावेज की प्रतिलिपि जमा करनी होगी।
  3. आधार कार्ड: आवेदक को अपनी पहचान और नागरिकता की पुष्टि के लिए आधार कार्ड की प्रतिलिपि प्रदान करनी होगी।
  4. बैंक खाता विवरण: आवेदक को अपने बैंक खाता की विवरण, जैसे खाता नंबर, बैंक का नाम, ब्रांच का पता आदि, प्रदान करना होगा।
  5. व्यापार संबंधित दस्तावेज: आवेदक को अपने व्यापार के संबंध में किसी भी प्रमाणपत्र, लाइसेंस, पंजीकरण या अन्य संबंधित दस्तावेज की प्रतिलिपि प्रदान करनी होगी।

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना के लिए आवेदन कैसे करें ?

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना के लिए आवेदन करने के लिए निम्नलिखित कदमों का पालन करें:

  1. सबसे पहले, आपको अपने राज्य के आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा जहां पर ऑनलाइन आवेदन करने के लिए लिंक उपलब्ध होगा।
  2. उस लिंक पर क्लिक करके, आपको एक फॉर्म भरना होगा जिसमें आपको अपने व्यवसाय के बारे में विस्तृत जानकारी देनी होगी।
  3. फॉर्म में आपको अपने व्यवसाय के नाम, पता, फोन नंबर, ईमेल आईडी, बैंक खाता नंबर आदि जानकारी भरनी होगी।
  4. फॉर्म के साथ ही आपको अपने व्यवसाय के आधार कार्ड, पैन कार्ड, बैंक पासबुक आदि जरूरी दस्तावेज भी अपलोड करने होंगे।
  5. आवेदन प्रक्रिया पूरी होने के बाद, आपको एक रजिस्ट्रेशन नंबर दिया जाएगा। इस नंबर का उपयोग करके, आप अपने आवेदन की स्थिति की जांच कर सकते हैं|
  6. अधिकृत संगठन द्वारा आपके आवेदन की समीक्षा की जाएगी और यदि आप पात्र होते हैं, तो आपको लोन की स्वीकृति और राशि की जानकारी दी जाएगी।
  7. आप अपने बैंक खाते में लोन राशि प्राप्त कर सकते हैं और योजना के तहत आवंटित निर्धारित कर्ज का चुकाने की प्रक्रिया शुरू कर सकते हैं।

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना के तहत ऋण आवेदन पत्र भरने के चरण क्या क्या हैं?

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना के ऋण आवेदन पत्र भरने के चरण निम्नलिखित हो सकते हैं:

  1. व्यक्तिगत जानकारी: आपको अपनी पर्सनल जानकारी जैसे नाम, पता, जन्मतिथि, पहचान प्रमाण पत्र आदि को दर्ज करना होगा।
  2. व्यापारिक जानकारी: आपको अपने व्यापार की जानकारी जैसे कि व्यापार का प्रकार, स्थान, पहले से बैंक खाता है या नहीं, व्यापार संबंधित दस्तावेज़ आदि को प्रदान करना होगा।
  3. आय और निवेश की जानकारी: आपको अपनी मासिक आय, व्यापार के लाभ, निवेश की जानकारी, अधिकृत बैंक खाता आदि को दर्ज करना होगा।
  4. ऋण राशि: आपको ऋण राशि की जानकारी देनी होगी, जिसे आप लेना चाहते हैं।
  5. दस्तावेज़: आपको आवेदन के साथ आवश्यक दस्तावेज़ साझा करने होंगे, जैसे कि पहचान प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र, व्यापार संबंधित दस्तावेज़, बैंक खाता विवरण आदि।
  6. पंजीयन: सबसे पहले, आवेदक को PM SVANidhi की आधिकारिक वेबसाइट https://pmsvanidhi.mohua.gov.in/ पर जाकर पंजीयन करना होगा। यह सुनिश्चित करेगा कि आपका शहर योजना के अंतर्गत आता है और आपके विक्रेता का पंजीयन भी किया जाएगा।
  7. आवेदन फार्म भरें: आवेदक को आवेदन फार्म भरना होगा जिसमें उनके बिजनेस का विवरण, उनकी आय और उनके बैंक खाते का विवरण शामिल होगा।
  8. आवेदन फार्म जमा करें: आवेदक को अपने आवेदन फार्म के साथ अपनी आवश्यक दस्तावेजों की एक संग्रहीत कॉपी (जैसे अपने आय के प्रमाणपत्र और बैंक खाते का बयान) बैंक में जमा करना होगा।
  9. ऋण स्वीकृति: अगर आपके आवेदन में सभी दस्तावेज सही हैं और आपके बैंक खाते का सत्यापन किया गया है, तो आपका ऋण अनुमोदित कर दिया जाएगा और आपके खाते में धनराशि ट्रांसफर कर दी जाएगी|

अपने ऋण आवेदन की स्थिति कैसे जानें

https://pmsvanidhi.mohua.gov.in/Home/Search आप इस लिंक का उपयोग करके आवेदन प्रक्रिया को पूरा कर सकते हैं|

कृपया ध्यान दें कि आवेदन प्रक्रिया और योजना से संबंधित जानकारी बदल सकती है, इसलिए वेबसाइट पर विवरणों को सत्यापित करें और अद्यतित जानकारी के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर नवीनतम जानकारी प्राप्त करें।

निष्कर्ष

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना एक महत्वपूर्ण पहल है जो नगरीय सड़क विक्रेताओं को आर्थिक सहायता प्रदान करके उन्हें स्वयंनिर्भर बनाने का लक्ष्य रखती है। इस योजना के तहत स्ट्रीट वेंडरों को आसानी से लोन प्राप्त करने का मौका मिलता है, जिससे उन्हें अपने व्यापार को बढ़ाने, संचालित करने और उनकी आय को बढ़ाने की सुविधा मिलती है।

इस योजना के अंतर्गत स्वनिधि लोन के लाभार्थियों को आर्थिक समर्थन, व्यापारिक योग्यता का विकास, औद्योगिक निर्माण और तकनीकी सहायता, संगठनात्मक समर्थन, उत्पादन संबंधी सुविधाएं, बिजली, पानी और स्वच्छता सुविधाएं, व्यापारिक प्रशिक्षण आदि के लाभ प्रदान किए जाते हैं। यह योजना स्ट्रीट वेंडरों को व्यापारिक रूप से मजबूत बनाने, आर्थिक स्थिरता प्रदान करने और उनके जीवन को सुखी बनाने में मदद करती है।

Frequently Ask Questions (FAQ’S)

कौन से ऋणदाता संस्थान ऋण प्रदान करेंगे?

अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, लघु वित्त बैंक, सहकारी बैंक, गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियां, सूक्ष्म-वित्त संस्थान एवं एस.एच.जी. बैंक।

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना के तहत कितनी लोन मिलेगी ?

प्रधान मंत्री स्ट्रीट वेंडर आत्मनिर्भर निधि (पीएम स्वनिधि) योजना के तहत आपको 50000 तक का लोन मिल सकता है|

Apna Samaaj

Our mission at Apna Samaaj is to connect underprivileged communities in India with the resources and opportunities they need to thrive. We aim to create a comprehensive platform that provides access to welfare schemes from government bodies and NGOs, as well as private organizations, helping to bridge the gap between those in need and those who can provide support. Through our efforts, we strive to empower individuals and communities, drive economic growth, and make a positive impact on society.